How to best Successful in any Work


How to best Successful in any Work


काम की समझ

काम की समझ   यह सुनिश्चित करने के लिए कि पहले ही चरण में सारा काम अच्‍छे तरीके से और पूर्णत: समाप्‍त हो जाए, काम से संबंधित आपकी समझ बिल्‍कुल सही और सटीक होनी चाहिए।

थोड़ा आराम भी

थोड़ा आराम भी   दोपहर के खाने के समय अपने कार्यालय के बाहर थोड़े समय के लिए घूम आएं। इससे आपकी ऊर्जा पुन: संगठित हो जाएगी और आपकी उत्‍पादकता में भी वृद्धि होगी। अपने काम के लिए समय का बहुत कड़ा और कठोर नियम न बनाएं। ऐसा करने से काम में होने वाली अनपेक्षित देरी को टाला जा सकता है।

खतरनाक भी हो सकता है

खतरनाक भी हो सकता है   जब आपके पास काम ज्यादा होता है तो देर रात तक रुककर उन कामों को निपटाने में भी एक किस्‍म का आनंद मिलता है। इस चीज का भी अपना एक आकर्षण है कि ज्‍यादा से ज्‍यादा मेहनत करके काम को पूरा किया जाए। लेकिन आप और आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए यह खतरनाक भी हो सकता है। अमेरिका में किए गए एक शोध के मुताबिक जो लोग काम के लिए निर्धारित घंटों से ज्‍यादा काम करते हैं, उनकी काम से संबंधित दिक्‍कतें और परेशानियां बढ़ जाती हैं। और जो लोग काम के लिए निश्चित घंटों में ही काम करते हैं, उन्‍हें इस तरह की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता।


कठिन काम का समय

कठिन काम का समय   यह सोचना छोड़ दीजिए कि अपने हाथों में जिम्‍मेदारी लेने और कामों का प्रतिनिधित्‍व करने में सदा अधिक समय लगता है। पूर्ण दायित्‍व के साथ काम करने के लिए निश्चित समय से अधिक तो काम करना ही पड़ेगा। खासतौर पर अगर किसी काम को कई बार करने की आवश्‍यकता हो, तब भी कामों को अतिरिक्‍त समय देने की कोई आवश्‍यकता नहीं होती है। देखिए कि आप किस समय अपने भीतर सर्वाधिक ऊर्जा महसूस करते हैं। सबसे कठिन काम उसी समय में करें, जब आपके भीतर सबसे ज्‍यादा ऊर्जा हो।


पहले एक काम खत्म करें

पहले एक काम खत्म करें   अगले काम की शुरुआत करने से पूर्व जो काम आपके हाथ में हैं, पहले उसे खत्‍म करें।


कार्य में सफल होना चाहते हैं

कार्य में सफल होना चाहते हैं   यदि आप किसी कार्य में सफल होना चाहते हैं या जीवन के विशिष्ट लक्ष्य में सफल होना चाहते हो तो इन बातों पर ध्यान दे- 

  • हमेशा यह सोचे की हमें यह कार्य करना है। पूरा करना है जो भी हो। 
  • ‘मुझे इसमें सफलता अवश्य मिलेगी’ यह संकल्प करते रहे। 
  • अपने को करता समझें और कर। 
  • यह सोचो की करने वाले इश्वर है। इससे अहं नहीं आएगा। 
  • साथ ही जब भी कभी विषमता आएगी तो आपका आत्मविश्वास बना रहेगा।
  •  सिर्फ वर्तमान में रह कर अपने लक्ष्य को लेकर सोचें ओर करें। 
  • एक डायरी बनायें। उसमे योजना बना ले की प्रतिदिन कितना काम करना है। उसमे कितना समय देना है। 
  • प्रतिदन यह भी ध्यान दे कि आप कीतने घंटे अपने लक्ष्य के लिए समय देते है। इन घंटों को नोट करें। रोज चेक करें।
  •  दुसरे दिन की अपेक्षा आज आपने काम या पुरुषार्थ कम तो नही किया। 
  • जब तक आपका लक्ष्य पूरा न हो किसी से लक्ष्य के बारे में न कहें। 
  • अपने को हमेशा चुस्त और सफुर्तियुक्त रहें। जीवन में समय को महत्व दें। 
  • व्यर्थ चिंतन और वार्तालाप से अपने को दूर रखें। 
  • नयी जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो पूछने में कभी संकोच न करें। 

आत्मविश्वास बनायें रखें।

 प्रतिदिन मन में कहे ‘ मैं एक सफल इंसान हूँ और मुझे जीवन में सफल होना ही है ‘ समूह में रहकर अपना समय नष्ट न करें।



Leave a Reply