Romantic Shayari जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा With Tejender Negi🇮🇳❣️



मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा
इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा

उसी का शहर वही मुद्दई वही मुंसिफ़
हमें यक़ीं था हमारा क़ुसूर निकलेगा

यक़ीं न आए तो इक बात पूछ कर देखो
जो हँस रहा है वो ज़ख़्मों से चूर निकलेगा

अमीर क़ज़लबाश

तमाम उम्र-ए-रवाँ का मआल हैरत है
जवाब जिस का नहीं वो सवाल हैरत है

ये ज़िंदगी तो तिरे साथ साथ ख़त्म हुई
जो मुझ में बाक़ी है वो ला-ज़वाल हैरत है

हुई तिलिस्म-ज़दा जब ये आइने ने कहा
यहाँ तो सारे का सारा जमाल हैरत है
~ तस्नीम आबिदी

आने वाले वक्त में ज़िंदा रहा तो ये पंक्तियाँ ज़रूर नई नस्लों को सुनाऊँगा-

जब मर रहे थे लोग और सब ग़मगीन थे।
राजा के महल फिर भी निर्माणाधीन थे।।

गुहार लगा कर के गुजर गई जिंदगियाँ-
और सिस्टम के सारे तार तमाशबीन थे।

जो गर्दिश के दिनों में जी रहे थे विरोधी-
उनके लिए सियासी मौक़े बेहतरीन थे।

मिल रही थी साँसें कई गुना दाम देकर-
कालाबजारियों के तो वो दिन हसीन थे।

मदद करने वाले फ़रिश्तों की क्या कहूँ-
वो हारे हुये कितने ही घरों के यक़ीन थे।

✍🏻#Shekhar
Romantic Shayari जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा With Tejender Negi🇮🇳❣️
#Romantic #Shayari #जन #क #नतज #जरर #नकलग #इस #सयह #समदर #स #नर #नकलग #Tejender #Negi
Romantic Shayari जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा With Tejender Negi🇮🇳❣️

Youtube

Leave a Reply