बेटी जब शादी के मंडप से… [Create Life] Shayari, Sawal & Suvichar



बेटी जब शादी के मंड से… [Create Life] Shayari, Sawal & Suvichar

बेटी जब शादी के मंडप से…
ससुराल जाती है तब …..
पराई नहीं लगती.
मगर ……

जब वह मायके आकर हाथ मुंह धोने के बाद सामने टंगे टाविल के बजाय अपने बैग से छोटे से रुमाल से मुंह पौंछती है , तब वह पराई लगती है ||

जब वह रसोई के दरवाजे पर अपरिचित सी खड़ी हो जाती है , तब वह पराई लगती है ||

जब वह पानी के गिलास के लिए इधर उधर आँखें घुमाती है , तब वह पराई लगती है ||

जब वह पूछती है वाशिंग मशीन चलाऊँ क्या ?? तब वह पराई लगती है ||

जब टेबल पर खाना लगने
के बाद भी बर्तन खोल कर नहीं
देखती तब वह पराई लगती है ||

जब पैसे गिनते समय अपनी नजरे
चुराती है तब वह पराई लगती है.
जब बात बात पर अनावश्यक ठहाके
लगाकर खुश होने का नाटक करती है
तब वह पराई लगती है…..

और लौटते समय ‘अब कब आएगी’ के
जवाब में ‘देखो कब आना होता है’
यह जवाब देती है, तब हमेशा के लिए
पराई हो गई ऐसे लगती है ||

लेकिन गाड़ी में बैठने के बाद
जब वह चुपके से अपनी आखें छुपा
के सुखाने की कोशिश करती ।
तो वह परायापन एक झटके में बह
जाता तब वो पराई सी लगती है ||

Subscrib My Channal on Youtube :- https://www.youtube.com/c/CreateLifeSuraj
Please Like & Share The Page :- https://www.facebook.com/createlifesuraj/

Thanks For Watching This Video …
Please Subscribe My Channal .. And Share The Video..
बेटी जब शादी के मंडप से… [Create Life] Shayari, Sawal & Suvichar
#बट #जब #शद #क #मडप #स #Create #Life #Shayari #Sawal #amp #Suvichar
बेटी जब शादी के मंडप से… [Create Life] Shayari, Sawal & Suvichar

Youtube

Leave a Comment

Your email address will not be published.