nand ke lala girdhar gopala

नंद के लाला गिरधर गोपाल गोपाला
कितना तू सोणा सोणा लागे
मैं सदके जावां हां मैं तो वारी जावा

पलके हैं जैसे गुलाबी पखुड़िया,
नैन कमल से लागे मैं सदके,,,,,,

बिम्बा के फल जैसे अधर तुम्हारे,
मोती से दांत भी लागे मैं सदके जावां,

नीलगगन सा मुखड़ा तुम्हारा,
बिजली सा पीतांबर लागे मैं सदके जावाँ,

ध्यान में तेरे मैं खुद को भूली,
आनंद नित नित लागे मैं सदके जावां,

Leave a Reply