Karmo ka Fal-Hindi Stories

“कर्मो का फल”

Karmo ka Fal-Hindi Stories

मैं office से जरूरी मीटिंग के लिए बाहर आया अभी बाइक को किक मारी थी कि जूते का सोल टूट गया अब ऐसे कैसे मीटिंग अटेंट करता सो लगा किसी जूता रिपेयर वाले को अचानक नजर सडक किनारे बैठी बुजुर्ग जोकि लगभग 65 साल के आसपास होगी लोगों के जूते चप्पल रिपेयर कर रही थी

पहले मुझे कुछ अच्छा नही लगा फिर जरूरी मीटिंग का खयाल आया तो उनके पास पहुंच गया बातों बातों मे मैंने पूछा-मां जी आप ऐसा काम कयो करती हो ,वो बोली-बेटा सब कर्मों का फल है ,मे -मतलब कर्मो का फल ,वो बोली-बेटा मे और मेरे पति शुरू से बेटा चाहता थे इसीलिए हमने दो बेटियों को कोख मे मार दिया उसके बाद दो बेटे हुए बडी उम्मीदो से उनकी परवरिश की पढाया लिखाया उनकी हर छोटी बडी इच्छाओं को पूरा किया धूमधाम से दोनों की शादी की बस उसके बाद दोनों बदल गये मेरे कहने पर मेरे पति ने घर कारोबार सबकुछ दोनों के नाम कर दिया बहूओ ने हमसे भेदभाव शुरू कर दिया


कई बार लडाई होती बदले मे हमें भूखे सोना पडता था पति ये सब सहन नही कर पाये और चल बसे बस बेटे बहुओ ने बार बार किसी ना किसी तरह सताना जारी रखा और एकदिन घर से पागल ना जाने कया-कया कहकर निकाल दिया कई दिनो भूखी रहने पर एक भले आदमी ने मुझे ये मेहनत का काम सिखाया कयोकि मुझे भीख नही मांगनी थी बस तबसे ऐसे ही काम करके अपना पेट पाल रही हूं ,मे स्तब्ध था कया कहूं.. खैर मेरा जूता तबतक ठीक हो चुका था मैंने100रू दिए तो उसने बाकी के 60रू मुझे वापस देने को बढाये

मैंने कहा रख लीजिए बेटा समझकर कुछ खा लीजिएगा मगर उसने साफ मना कर दिया बोली-नही बेटा बस अगर कुछ करने की इच्छा रखते हो तो इतना करना अपने माता पिता को कभी दुखी मत करना और अपने आसपास भी किसी को ये अपराध मत करने देना कौन जाने कब किसे कैसे ऊपरवाला उसके कर्मो का फल दे दे।

Source : Fb Page : Anmol Moti

Leave a Reply