Shri Shivastak Chalisa

श्री शिवाष्टक / चालीसा श्री शिवाष्टकआदि अनादि अनंत अखंड अभेद अखेद सुबेद बतावैं।अलग अगोचर रूप महेस कौ जोगि-जति-मुनि ध्यान न पावैं॥आग-निगम-पुरान सबै इतिहास सदा जिनके गुन गावैं।बड़भागी नर-नारि सोई जो…

Continue ReadingShri Shivastak Chalisa

Shri Sankat Mochak Hanumastak Chalisa

श्री संकटमोचन हनुमानाष्टक / चालीसा मत्तगयन्द छन्द बाल समय रबि भक्ष लियो तब तीनहूँ लोक भयो अँधियारो।ताहि सों त्रास भयो जग को यह संकट काहू सों जात न टारो।।देवन आनि…

Continue ReadingShri Sankat Mochak Hanumastak Chalisa

Shri Ramdev Chalisa

श्री रामदेव चालीसा / चालीसा ।। दोहा ।।जय जय जय प्रभु रामदे, नमो नमो हरबार।लाज रखो तुम नन्द की, हरो पाप का भार। दीन बन्धु किरपा करो, मोर हरो संताप।स्वामी…

Continue ReadingShri Ramdev Chalisa

Shri Vidya Chalisa

श्री विद्या चालीसा / चालीसा श्री विद्या के यन्त्र में छिपे हुये सब ग्यान,श्री विद्या के भक्त को, मिलें सभी वरदान।[१]श्री विद्या! आत्मा, ललिता तू,गौरी, शान्ता, श्री माता तू।[२]महालक्षमी, सरस्वती…

Continue ReadingShri Vidya Chalisa

Shri KRishna Chalisa

श्री कृष्ण चालीसा / चालीसा बंशी शोभित कर मधुर, नील जलद तन श्याम।अरुण अधर जनु बिम्ब फल, नयन कमल अभिराम॥१ पूर्ण इन्द्र, अरविन्द मुख, पीताम्बर शुभ साज।जय मनमोहन मदन छवि,…

Continue ReadingShri KRishna Chalisa

Shri Lakshmi Chalisa

लक्ष्मी चालीसा / चालीसा दोहामातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।मनो कामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस॥सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार॥ टेक॥सोरठायही मोर…

Continue ReadingShri Lakshmi Chalisa

Shri Ganesh ji Chalisa-Full details of lyrics in hindi

श्री गणेश चालीसा / चालीसा दोहा जय गणपति सदगुणसदन, कविवर बदन कृपाल।विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल॥ चौपाई जय जय जय गणपति गणराजू। मंगल भरण करण शुभ काजू॥१जय गजबदन…

Continue ReadingShri Ganesh ji Chalisa-Full details of lyrics in hindi

Shree Durga Chalisa Details and Lyrics

श्री दुर्गा चालीसा / चालीसा नमो नमो दुर्गे सुख करनी, नमो नमो अम्बे दुःख हरनी .निराकार है ज्योति तुम्हारी, तिहूं लोक फैली उजियारी .शशि ललाट मुख महा विशाला, नेत्र लाल…

Continue ReadingShree Durga Chalisa Details and Lyrics

Shri Hanuman Chalisa

श्री हनुमान चालीसा / चालीसा दोहा श्रीगुरू चरन सरोज रज निज मन मुकुरू सुधारि।बरनउँ रघुबर बिमल जसु दो दायकु फल चारि।। बुद्धिहीन तुन जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।बल बुधि बिद्या देहु मोहिं,…

Continue ReadingShri Hanuman Chalisa