|| भजन | अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता – PUJYA RAJAN JEE. M- +919831877060. #rajanji #bhajan #ramkatha

दूसरे Social Media Platform पर ूज्य राजन जी से जुड़ने के लिए निचे दिए गए Link पर Click करें। Facebook …
|| भजन | अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता – PUJYA RAJAN JEE. M- +919831877060. #rajanji #bhajan #ramkatha
#भजन #अषट #सदध #नव #नध #क #दत #PUJYA #RAJAN #JEE #rajanji #bhajan #ramkatha
|| भजन | अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता Lyrics– PUJYA RAJAN JEE. M- +919831877060. #rajanji #bhajan #ramkatha

Hey Dukh Bhanjan Maruti Nandan Lyrics in Hindi | हे दुःख भंजन मारुती नंदन लिरिक्स

हे दुःख भंजन मारुती नंदन लिरिक्स | Hey Dukh Bhanjan Maruti Nandan Lyrics in hindi

|| जय श्री राम ||

हे दुख भंजन, मारुती नन्दन , सुन लो मेरी पुकार |
पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ॥

हे दुख भंजन, मारुती नन्दन, सुन लो मेरी पुकार |
पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ॥

अष्ट सिद्धि, नव निधि के दाता, अष्ट सिद्धि, नव निधि के दाता |
दुखियो के तुम भाग्यविधाता , दुखियो के तुम भाग्यविधाता |
सियाराम के काज संवारे , सियाराम के काज संवारे |
मेरा करो उधार ,पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ॥
हे दुख भंजन, मारुती नन्दन, सुन लो मेरी पुकार |
पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ॥

अपरंपार है शक्ति तुम्हारी , अपरंपार है शक्ति तुम्हारी |
तुम पर रीझे अवध बिहारी , तुम पर रीझे अवध बिहारी |
भक्ति भाव से ध्याऊं तोहे , भक्ति भाव से ध्याऊं तोहे |
कर दुखो से पार , पवनसुत विनती बारंबार ||
पवनसुत विनती बारंबार ॥
हे दुख भंजन, मारुती नन्दन, सुन लो मेरी पुकार |
पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ॥

जपू निरन्तर नाम तिहारा , जपूं निरंतर नाम तिहारा |
अब नहीं छोडू तेरा द्वारा , अब नहीं छोडू तेरा द्वारा |
राम भक्त मोहे शरण मे लीजे , राम भक्त मोहे शरण मे लीजे |
भाव सागर से तार , पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ||
हे दुख भंजन, मारुती नन्दन, सुन लो मेरी पुकार |
पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ||

हे दुख भंजन, मारुती नन्दन, सुन लो मेरी पुकार |
पवनसुत विनती बारंबार |
पवनसुत विनती बारंबार ॥

Hey Dukh Bhanjan Maruti Nandan Lyrics In English

He Dukh Bhanjan, Maruti Nandan, Sun Lo Meri Pukar .
Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.

He Dukh Bhanjan, Maruti Nandan, Sun Lo Meri Pukar .
Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.

Asht Siddhi Nav Nidhi Ke Data, Asht Siddhi Nav Nidhi Ke Data.
Dukhiyo Ke Tum Bhagya Vidhata , Dukhiyo Ke Tum Bhagya Vidhata.
Siya Ram Ji Ke Kaj Sanvare , Siya Ram Ji Ke Kaj Sanvare.
Mera Kar Uddhar , Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.
He Dukh Bhanjan, Maruti Nandan, Sun Lo Meri Pukar .
Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.

Aprampaar He Shakti Tumhari , Aprampaar Hai Shakti Tumhari.
Tum Par Rijhe Awadh Bihaari , Tum Par Rijhe Awadh Bihaari.
Bhakti Bhav Se Dhyau Tohe , Bhakti Bhav Se Dhyau Tohe.
Kar Dukho Se Par , Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.
He Dukh Bhanjan, Maruti Nandan, Sun Lo Meri Pukar .
Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.

Japun Nirantar Naam Tihaara , Japun Nirantar Naam Tihaara.
Ab Nahi Chhodu Tera Dvara , Ab Nahi Chhodu Tera Dvara.
Ram Bhakt Mohe Sharan Me Leeje , Ram Bhakt Mohe Sharan Me Leeje.
Bhav Sagar Se Taar , Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.

He Dukh Bhanjan, Maruti Nandan, Sun Lo Meri Pukar .
Pawansut Vinti Baarambaar.
Pawansut Vinti Baarambaar.

हे दुःख भंजन मारुती नंदन लिरिक्स का हिंदी अर्थ

हे राम भक्त श्री हनुमान जी मारुति नंदन आप सब प्रकार के दुखो को दूर करने वाले हे | कृपा करके मेरी प्रार्थना स्वीकार करे | हे पवनपुत्र यही विनती हम आपसे बार बार करते हे |
हे आठो सिद्धियो और नौ निधियों के दाता पवन पुत्र हनुमान आप दुखी और दीन हीन के भाग्य की बिगड़ी को बनाने वाले हे | प्रभु श्री राम के कार्यों को जिस प्रकार आपने संवारा हे , ठीक उसी प्रकार मेरा भी उद्धार कर दे , यही मेरी आप से बार बार विनती हे |
हे अंजनी के लाल महावीर बजरंग बलि आप की शक्ति का कोई पार नहीं हे अर्थात अपरम्पार हे , आप पर अवध बिहारी जी श्री रामचंद्र जी हमेशा प्रसन्न रहते हे | में आपका पूरे भक्ति भाव से ध्यान कर रहा हु , कृपा करके मेरे सारे दुखों को दूर करे , यही मेरी आप से बार बार विनती हे |
हे महावीर बजरंगबलि में आपके नाम का अविरत लगातार जाप करता हु , अब में आपके द्वार को कभी नहीं छोड़ने वाला | हे श्री राम परम भक्त आप मुझे अपनी शरण में लेकर मुझ दीन पर कृपा करके इस भवसागर से पार कर दीजिए, पवन पुत्र बजरंगबली आपसे मेरी यही विनती हे और बार बार विनती हे |

Leave a Comment

Your email address will not be published.