चार दिनों की प्रीत इंग्लिश- हिंदी में भजन लिरिक्स

चार दिनों की ्रीत जगत में चार दिनों के नाते है
पलकों के पर्दे पड़ते ही सब नाते मिट जाते हैं…

जिनकी चिन्ता में तू जलता वे ही चिता जलाते हैं…
जिन पर रक्त बहाये जल सम जल में वही बहाते हैं…
पलकों के पर्दे पड़ते ही…..

घर के स्वामी के जाने पर घर की शुद्धि कराते है…
पिंड दान कर प्रेत आत्मा से अपना पिंड छुडाते हैं…
पलकों के पर्दे पड़ते ही….

चौथे से चालीसवें दिन तक हर एक रस्म निभाते है…
मृतक के लौट आने का कोई जोखिम नही उठाते है…
पलकों के पर्दे पड़ते ही……

आदमी के साथ उसका खत्म किस्सा हो गया…
आग ठण्डी हो गई चर्चा भी ठण्डा हो गया…
चलता फिरता था जो कल तक बनके वो तस्वीर आज…
लग गया दीवार पर… मजबूर कितना हो गया

इंग्लिश- हिंदी में भजन लिरिक्स – Best and Amazing Likhit me भजन लिरिक्स- fonts bhajans

chaar dinon kee preet jagat mein chaar dinon ke naate hai…
palakon ke parde padate hee sab naate mit jaate hain…

jinakee chinta mein too jalata ve hee chita jalaate hain…
jin par rakt bahaaye jal sam jal mein vahee bahaate hain…
palakon ke parde padate hee…..

ghar ke svaamee ke jaane par ghar kee shuddhi karaate hai…
pind daan kar pret aatma se apana pind chhudaate hain…
palakon ke parde padate hee….

chauthe se chaaleesaven din tak har ek rasm nibhaate hai…
mrtak ke laut aane ka koee jokhim nahee uthaate hai…
palakon ke parde padate hee……

aadamee ke saath usaka khatm kissa ho gaya…
aag thandee ho gaee charcha bhee thanda ho gaya…
chalata phirata tha jo kal tak banake vo tasveer aaj…
lag gaya deevaar par… majaboor kitana ho gaya

angrezee- bhajan ke bol hindee mein | inglish- hindee mein bhajan Lyrics | Bhajan Lyrics in English – Bhajan Lyrics in Hindi From Bhajan Lyrics Collections Stories.P-page.com bhajan Lyrics- – baist and amazing likhit mai bhajan Lyrics- fonts bhajans

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *