क्षमा करो अपराध शरण माँ आया हूँ भजन लिरिक्स Bhajan Lyrics With Video

क्षमा करो अपराध शरण माँ आया हूँ
माता वैष्णो द्वार मै झुकायाँ हूँ

देवों के सब संकट तारे
रक्त बीज मधु केट्भ मारे
शुम्भ अशुम्भ असुर संघारे
किया भगत कल्याण शरण माँ आया हूँ

बालकपन खेलों में गवायाँ
योवन विषयों में भरमाया
बुढापन कुछ काम न आया
जीवन सफल बनाओ शरण माँ आया हूँ

धन योवन का साथ नहीं है
विदयाधन कुछ ास नहीं है
नाम बड़ा नहीं काम बड़ा नहीं
नहीं बड़ा कुल धाम शरण माँ आया हूँ

धर्म मार्ग मुझको न सुहाते
सदा कुमार्ग मुझको भाते
मन चंचल तेरा ध्यान न करता
बड़ा चबल नादान शरण माँ आया हूँ

घर बहार से हूँ ठुकराया
विषयों मैं भटका घबराया
समय गवां कर मैं पछताया
विषय सर्प मन दशा शरण माँ आया हूँ

माँ विपदा ने मुझे हैं घेरा
बिन तेरे अब कोई न मेरा
दिन बंधू माँ नाम है तेरा
करो सफल निज धाम शरण माँ आया हूँ
क्षमा करो अपराध शरण माँ आया हूँ

माता वैष्णो द्वार मै झुकायाँ हूँ

हिंदी में भजन लिरिक्स – Bhajan Share -दुर्गा भजन लिरिक्स | Durga Bhajan Lyrics | Durga Ji ke Bhajan Lyrics

Watch Music Video Of This Bhakti Bhajan Song

Leave a Reply