Shri RAm chandra ji ki Aarti

 आरती कीजै रामचन्द्र जी की / आरती

   


Shri RAm chandra ji ki Aarti

आरती कीजै रामचन्द्र जी की।

हरि-हरि दुष्टदलन सीतापति जी की॥

पहली आरती ुष्पन की माला।

काली नाग नाथ लाये गोपाला॥

दूसरी आरती देवकीन्दन।

भक्त उबारन कंस निकन्दन॥

तीसरी आरती त्रिभुवन मोहे।

रत्‍‌न सिंहासन सीता रामजी सोहे॥

चौथी आरती चहुं युग पूजा।

देव निरंजन स्वामी और न दूजा॥

पांचवीं आरती राम को भावे।

रामजी का यश नामदेव जी गावें॥




Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *