chalisa-sangrah-lyrics

Shri Shivastak Chalisa

श्री शिवाष्टक / चालीसा श्री शिवाष्टकआदि अनादि अनंत अखंड अभेद अखेद सुबेद बतावैं।अलग अगोचर रूप महेस कौ जोगि-जति-मुनि ध्यान न पावैं॥आग-निगम-पुरान सबै इतिहास सदा जिनके गुन गावैं।बड़भागी नर-नारि सोई जो साम्ब-सदाशिव कौं नित ध्यावैं॥1॥ सृजन सुपालन-लय-लीला हित जो बिधि-हरि-हर रूप बनावैं।एकहि आप बिचित्र अनेक सुबेष बनाइ कैं लीला रचावैं॥सुंदर सृष्टि सुपालन करि जग पुनि बन …

Shri Shivastak Chalisa Read More »

Shri Sankat Mochak Hanumastak Chalisa

श्री संकटमोचन हनुमानाष्टक / चालीसा मत्तगयन्द छन्द बाल समय रबि भक्ष लियो तब तीनहूँ लोक भयो अँधियारो।ताहि सों त्रास भयो जग को यह संकट काहू सों जात न टारो।।देवन आनि करी बिनती तब छाँडि़ दियो रबि कष्ट निवारो।को नहिं जानत है जगमें कपि संकट मोचन नाम तिहारो।। 1।। बालि की त्रास कपीस बसै गिरि जात …

Shri Sankat Mochak Hanumastak Chalisa Read More »

Shri Ramdev Chalisa

श्री रामदेव चालीसा / चालीसा ।। दोहा ।।जय जय जय प्रभु रामदे, नमो नमो हरबार।लाज रखो तुम नन्द की, हरो पाप का भार। दीन बन्धु किरपा करो, मोर हरो संताप।स्वामी तीनो लोक के, हरो क्लेश, अरू पाप। ।। चैपाई ।। जय जय रामदेव जयकारी। विपद हरो तुम आन हमारी।।तुम हो सुख सम्पति के दाता। भक्त …

Shri Ramdev Chalisa Read More »

Shri Vidya Chalisa

श्री विद्या चालीसा / चालीसा श्री विद्या के यन्त्र में छिपे हुये सब ग्यान,श्री विद्या के भक्त को, मिलें सभी वरदान।[१]श्री विद्या! आत्मा, ललिता तू,गौरी, शान्ता, श्री माता तू।[२]महालक्षमी, सरस्वती तू।दुर्गा, त्रिपुरा, गायत्री तू।[३]पूर्ण स्रिष्टि की है तू काया,लेकिन तुझको कहते माया।[४]सत्य, चित्त, आनन्दमयी तू,पूर्ण, अनन्त, प्रकाशमयी तू।[५]भजते तुझको मन्त्रों द्वारा,तुझे खोजते यन्त्रों द्वारा।[६]तन्त्रों से …

Shri Vidya Chalisa Read More »

Shri KRishna Chalisa

श्री कृष्ण चालीसा / चालीसा बंशी शोभित कर मधुर, नील जलद तन श्याम।अरुण अधर जनु बिम्ब फल, नयन कमल अभिराम॥१ पूर्ण इन्द्र, अरविन्द मुख, पीताम्बर शुभ साज।जय मनमोहन मदन छवि, कृष्णचन्द्र महाराज॥२ जय यदुनन्दन जय जगवन्दन। जय वसुदेव देवकी नन्दन॥१जय यशुदा सुत नन्द दुलारे। जय प्रभु भक्तन के दृग तारे॥२जय नट-नागर नाग नथइया। कृष्ण कन्हैया …

Shri KRishna Chalisa Read More »